बुत

बुत

तुम्हारी खुदी का बुत, सारे बुतों की है जड़
वो तो बस साँप, इस में अजगर की जकड़

Hits: 8

:: ADVERTISEMENTS ::
shares