पस्ती

पस्ती

खुश रह ग़म से कि ग़म फन्दा है दीदार का
पस्ती की तरफ़ तरक़्क़ी, ढंग है इस राह का

Hits: 12

:: ADVERTISEMENTS ::
shares